-->
हे इंद्र भगवान अब दया करो, कुछ ऐसा ही कह रहे हैं चकबरा पंचायत के लोग

हे इंद्र भगवान अब दया करो, कुछ ऐसा ही कह रहे हैं चकबरा पंचायत के लोग

Chakbara panchayat flood Madhuban
चकिया: उत्तर बिहार के गांव में पानी है और जिंदगी खुले आसमान के नीचे गुजर रही है। देखिए मोतिहारी के चकिया में बारिश ने ऐसी तबाही मचा रखी है की जिंदगी खुले आसमान के नीचे आ गई है। 

चकिया प्रखंड के चकवारा पंचायत के वार्ड संख्या 12 में पूरा गांव टापू में तब्दील हो गई है और पूरा सड़क ब्लॉक हो चुका है। यह दलितों की बस्ती है जहाँ बारिश ने पिछले एक सप्ताह से लोगों का जीना दुश्वार कर दिया है। चकवारा के लोगों के घर में वर्षा का पानी भर चुका है। लिहाजा लोगों ने सरकारी स्कूल के भवन में शरण ले रखी है। अपनी जान के साथ साथ अपनी जानवरों का भी जान बचा रहे हैं। वर्षा के पानी में सब कुछ डूब गया है ।पंचायत के कई वार्ड वर्षा के पानी में डूब गया हैं। जहां लोग जिंदगी बसाने की उम्मीद में है। 
Chakbara Panchayat flood Madhuban

यह तस्वीर चकवारा पंचायत की है जहां प्रशासन की कोई मदद नहीं पहुंची है। यहां ना ही कोई जनप्रतिनिधि और ना हीं कोई अधिकारी इन्हें देखने तक आए हैं। सुशासन का एक तस्वीर यह भी है जो बताता है कि सुशासन के नाम पर लोगों को सिर्फ और सिर्फ बेवकूफ बनाया जा रहा है।

 प्रखंड क्षेत्र के गांव चकबारा  महादलित टोला में वर्षा का पानी लोगों के घरों में घुस गया है। जिससे टोला वासियों को खासे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

पानी का  विभीषिका झेल रहे  लोग अपना  घर बार छोड़ मवेशी सहित पूरे परिवार के सदस्यों के साथ टोला के समिप  स्थित  नवसृजित प्राथमिक विद्यालय में शरण ले चुके हैं।
Chakbara Panchayat flood Madhuban

इस बाबत विधालय में शरण लिये रामशीष राम, रामनरेश राम, रामआसरे राम,भरोस राम, कृष्णा राम, बद्री राम, दशरथ राम, निर्मला देवी, सीमा देवी, निर्जला देवी, दयावती देवी तथा बलराम राम तथा राजेंद्र राम आदि का कहना था उक्त टोला में लगभग पचास महादलित परिवार  घर बना कर  रहते हैं तथा रोज कमाने और खाने वाले लोग हैं। कोरोना महामारी ने बेरोजगार वहीं अतिवर्षा के कारण जलजमाव ने बेघर कर दिया है।

घरों में अधिक जल जमाव से कोठी आदि में रखा कुछ अनाज तथा जलावन तथा वस्त्र आदि सर गया है जिस कारण भुखमरी स्थिति आ गयी है। साथ साथ पशु का चारा ईत्यादि के सड़ने से संकट पैदा हो गया है। बीते कई दिनों से यहाँ रह रहे हैं परन्तु कोई सुधी लेने नहीं आया जो अफसोस
 जनक है।

दुसरी तरफ अनुमंडल पदाधिकारी बृजेश कुमार ने बताया कि जांच का आदेश सीओ को  दे दिया गया है। रिपोर्ट के बाद अग्रतर कार्रवाई  की जाएगी।

0 Response to "हे इंद्र भगवान अब दया करो, कुछ ऐसा ही कह रहे हैं चकबरा पंचायत के लोग"

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article