-->
मोरे सैंया भए कोतवाल, अब डर काहे का वाली कहावत चरितार्थ कर रहे हैं तस्कर, पुलिस बन गई है मूकदर्शक

मोरे सैंया भए कोतवाल, अब डर काहे का वाली कहावत चरितार्थ कर रहे हैं तस्कर, पुलिस बन गई है मूकदर्शक

Smugglers caught by villagers in Adapur
आदापुर: प्रखंड के कनुनिया गाँव के ग्रामीणों के द्वारा दो खाद तस्करो को पकड़ा गया है। उनके पास से चार बोरा खाद तथा दो मोटरसाइकिल भी पकड़ा गया है। ग्रामीणों के अनुसार गाँव के ही दुकानदार रमाकांत साह के द्वारा खाद तस्करो को खाद बेचा जा रहा है। इसका ग्रामीणों के द्वारा कई दिनों से विरोध किया जा रहा था, लेकिन दुकानदार पर कोई असर नहीं हुआ। जिसके कारण ग्रामीणों ने आज सुबह लगभग 4 बजे के करीब तस्करों को रंगे हाथ पकड़ा है। लेकिन दोनों तस्कर भाग निकले तथा सामान वही छोड़ दिया।

पकड़ने वाले ग्रामीणों में हरिशंकर यादव, मनोहर प्रसाद यादव, लवकुश कुमार,अभिषेक कुमार शामिल थे। प्राप्त सुचना अनुसार पुलिस को खबर करने पर भी कोई नहीं आया। प्रशासन को तस्करो के विरुध कोई ठोस कदम जरूर उठाना चाहिए जिससे किसानों को फायदा हो और समय पर उनको खाद मिल सके।ग्रामीणों को शिकायत है की प्रशासन कोई ठोस कदम नहीं उठाता है जिसका फायदा तस्करों  को हमेशा मिलता है। बरहाल सीमावर्ती क्षेत्र में तस्करी का धंधा काफी फलफूल रहा है एवं अधिकारी मूकदर्शक बने हुए हैं।

न्यूज़ डेस्क



0 Response to "मोरे सैंया भए कोतवाल, अब डर काहे का वाली कहावत चरितार्थ कर रहे हैं तस्कर, पुलिस बन गई है मूकदर्शक"

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article