-->
बाढ़ से गांव बना टापू, घर भी गिर गए, कहाँ जाएं, क्या खाएं

बाढ़ से गांव बना टापू, घर भी गिर गए, कहाँ जाएं, क्या खाएं

Flood in Kesariya
केसरिया: प्रखंड क्षेत्र के बथना पंचायत के प्रदुमन छपरा, बीन टोली सहित वार्ड 1,2,3,4,5,6,7 के लगभग 527 घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है। क्षेत्र के लोग बाढ़ एवं पूरे विश्व में फैले कोरोना महामारी के भय से दोहरी मार झेल रहे हैं। 

बथना पंचायत के पूर्व मुखिया अमजद खान उर्फ गुड्डू खान एवं वर्तमान पैक्स अध्यक्ष संजय तिवारी ने सभी वार्डों में घूम कर भ्रमण किया। उन्होंने बच्चे से लेकर बुजुर्गों तक एवं पालतू पशुओं की कठिनाई को काफी नजदीक से देखा। 

पूर्व मुखिया गूडू खान ने कहा कि सरकार की तरफ से या केसरिया अंचलाधिकारी के तरफ से किसी प्रकार की सरकारी व्यवस्था मुहैया नहीं की गई है। लगभग 30 घर भी गिर चुके हैं। इन घरों के लोगों को नाव से बैठा कर सुरक्षित  स्थान पर ले जाया जा रहा है।

वार्ड नंबर 4 की सरिता देवी ने कहा कि लगभग 2 महीना से हम लोग पानी की में घिरे हुए हैं। कुछ लोग प्राथमिक विद्यालय के स्कूल में शरण लिए हुए हैं और कुछ लोग अपने घर के अंदर रुके हुए हैं। कहीं भी आने जाने का इस बाढ़ में रास्ता नहीं है। 

बाढ़ में बिगन सहनी, अर्चना देवी,सरिता देबी, लक्ष्मण सहनी, नंदलाल सहनी, जोधा सहनी, राम बृक्ष सहनी, बिरेंद्र सहनी, लक्ष्मण सहनी, अनूप मुखिया, रामाश्रय मुखिया, रहमान खान, इकराम खान, निजाम खान, हुसेनी खान, शमसुद्दीन मियां, रामचंद्र मुखिया, प्रेम मुखिया, सिराजुल खान, प्रति राम मुखिया, भोला मुखिया, बिजली सहनी, संजीव सहनी, रामनाथ सहनी, नारायण सहनी, जयराम सहनी,सरयुग सहनी इत्यादि लोग घिरे हुए हैं।




0 Response to "बाढ़ से गांव बना टापू, घर भी गिर गए, कहाँ जाएं, क्या खाएं"

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article