-->
केसरिया किसान काउंसिल ने किया सत्याग्रह, सरकार को लिया आड़े हाथों

केसरिया किसान काउंसिल ने किया सत्याग्रह, सरकार को लिया आड़े हाथों

Akhil Bhartiya Kisan Mahasabha Kesariya
केसरिया (Kesariya): प्रखंड क्षेत्र के बनकट गांव के केसरिया किसान कांसिल के बैनर तले किसानों मजूदरों नौजवानों महिलाओं ने सत्याग्रह किया। इस सत्याग्रह मे बिहार राज्य किसान सभा के कार्यकारिणी सदस्य सह जिला मंत्री बकिंम चन्द्र दत ने कहा कि भारत के आजादी की लड़ाई मे ऐतिहासिक दिन 9 अगस्त 1942 के सम्मान में यह सत्याग्रह किया गया है। 


उन्होंने कहा कोविड 19 महामारी एवं बिहार में आयी भीषण बाढ से निपटने मे फेल हो चुकी है सरकार। केसरिया समेत पूरे जिले में  लाकडाउन और बाढ से भूखमरी और कंगाली के दहलीज पर पहूंच गये। किसान और मजदूरो समेत आम आदमी  को राहत देने में विफल केन्द्र वो बिहार सरकार  एवं जिला प्रशासन को आड़े हाथो लिया। 


केसरिया अंचल कमिटी के मंत्री शिवगूलाम महतो ने कहा कि मठिया, बथना दोनो सूंदरापूर, ताजपूर, कढान, ढेकहा, हूसेनी, सेमूआपूर, सरोतर के लोगों के  घरो मे पानी घूसा और केसरिया प्रखंड प्रशासन ने दो तीन दिनो तक एक शाम भोजन देकर अपने कर्तव्य का इतिश्री कर लिया।  अगर 72 घंटों के अन्दर प्रखंड प्रशासन ने कारगर कदम नही ऊठाया तो केसरिया अंचल किसान सभा प्रखंड कार्यालय पर अनिश्चित कालीन धारना दिया जाएगा। 


मौके पर लालबाबू चौधूर, मोहन पासवान, टुनटुन साह, महेंद्र दास, राजू मुखिया, रामानंद मुखिया, बुनिलाल दास, महेंद्र दास, इंदल सहनी इत्यादि उपस्थित थे।


केसरिया से दीनानाथ पाठक की रिपोर्ट




Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article