-->
प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है पृथ्वी : राधामोहन

प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है पृथ्वी : राधामोहन

 

प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है पृथ्वी : राधामोहन
पीपराकोठी (Piprakothi): हमारी परंपराओं ने प्रकृति के साथ सौहार्द बनाकर रहने के महत्व पर बल दिया है। यह प्रकृति के प्रति हमारे आदर व्यवहार में झलकता है। यह हमारे त्यौहारों और हमारी प्राचीन कृतियों में भी दिखता है। आज इस महत्वपूर्ण अवसर पर हम सार्वभौमिक भाईचारे के प्राचीन मूल्यों को याद करते हैं। यह संस्कृत में वसुधैव कुटुम्बकम् के रूप में व्यक्त किया गया है जिसका अर्थ है विश्व एक परिवार है। महात्मा गांधी के ट्रस्टीशिप के सिद्धांत में भी यह मूल्य दिखता है। पृथ्वी प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है, लेकिन प्रत्येक व्यक्ति के लालच को पूरा करने के लिए काफी नहीं है। उक्त बातें रविवार को स्थानीय सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह ने बिहार पृथ्वी दिवस के अवसर पर जीवधारा में बिहार सरकार के पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन द्वारा नवनिर्मित बापू स्थायी पौधशाला के उद्घाटन के मौके पर कही। 


इससे पहले सांसद श्री सिंह, बिहार सरकार के कला, संस्कृति व युवा विभाग मंत्री प्रमोद कुमार, विधायक श्यामबाबू प्रसाद यादव व सचिंद्र प्रसाद सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की। आगे सांसद श्री सिंह ने कहा की जनवरी 1970 में समुद्र में तीन मिलियन गैलन तेल का रिसाव हुआ था, जिसमें दस हजार सी-बर्ड, डल्फिन, सील और सी-लायंस मारे गये थे। इसके बाद अमेरिकी सीनेटर गेलार्ड नेल्सन के आह्वान पर 22 अप्रैल 1970 को पहला विश्व पृथ्वी दिवस मनाया गया था। वहीं बिहार सरकार द्वारा अगस्त क्रान्ति को ध्यान में रखकर पर्यावरण की रक्षा के लिए 9 अगस्त के दिन दिन को बिहार पृथ्वी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय प्रथम बार वर्ष 2011 में लिया गया। 


उन्होंने ने बताया कि आज से 78 वर्ष पहले नौ अगस्त को गांधी जी ने अंग्रेजो भारत छोड़ो का नारा दिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आज गंदगी भारत छोड़ो का नारा दिया है। गांधी जी ने यह भी कहा था कि पृथ्वी, वायु, जल और जमीन हमें विरासत में नहीं, बल्कि कर्ज के रूप में मिला है, जिसे हमें वापस करना है। पृथ्वी को हमने मां के रूप में स्वीकार किया है। पौधा लगाना और एक मां की तरह उसकी रक्षा करना हमसब का दायित्व है। जल संरक्षण भी आज की जरूरत है। सभी को चाहिए कि अधिक-से-अधिक पौधे लगाएं और धरती की रक्षा करें।  


अंत में सांसद श्री सिंह ने एक पारिजात वृक्ष का वृक्षारोपण भी किया। इस अवसर पर बिहार सरकार के मंत्री प्रमोद कुमार, जिला वन पदाधिकारी श्प्रभाकर झा, विधायक सचिंद्र प्रसाद सिंह, श्याम बाबू यादव, पीडी आत्मा रणवीर सिंह, अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष मनोज पासवान व जिला महामंत्री डॉ. लाल बाबू प्रसाद के अतिरिक्त अन्य लोग उपस्थित थे।


पिपराकोठी से राम प्रकाश शर्मा की रिपोर्ट





- बापू पौधशाला में 108 प्रजातियों का पौधा उपलब्ध 



- 10 रुपये मिलेगा प्रति पौधा


 डीएफओ प्रभाकर झा ने बताया कि इस स्थायी बापू पौधशाला में 108 प्रजातियों का पौधा उपलब्ध होगा जिसमें इमारती, औषधि, फलदार व फूलदार सभी प्रकार के प्रजाति के पौधे शामिल होंगे। कहा कि वन विभाग ढाई लाख पौधारोपण का लक्ष्य रखा है। सभी प्रकार के पौधे किसानों को न्यूनतम दर 10 रुपए प्रति पौधा उपलब्ध होगा।




0 Response to "प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है पृथ्वी : राधामोहन"

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article