-->
ब्रेकिंग : मांझी हुए महागठबंधन से अलग, जदयू में जाने के कयास

ब्रेकिंग : मांझी हुए महागठबंधन से अलग, जदयू में जाने के कयास

 

Mahagathbandhan Break in Bihar
पटना (Patna): बिहार में चुनाव से पहले राजनीतिक पार्टी और नेताओं के मिलने और जुदा होने की कहानी शुरू हो चुकी है. अब बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी की पार्टी हिंदुस्तान अवाम मोर्चा ने खुद को महागठबंधन से अलग कर लिया है. 


मांझी की पार्टी की कोर कमेटी ने आज इस बात का फैसला किया. हालांकि अभी एनडीए से गठबंधन को लेकर कोई ऐलान नहीं किया है, लेकिन माना जा रहा है कि जीतन राम मांझी जेडीयू के साथ जा सकते हैं.


इस पूरे मामले को लेकर पार्टी के प्रवक्ता दानिश रजा ने कहा, "लगातार कोऑर्डिनेशन कमेटी बनाने के लिए कई महीनों से कह रहे थे, लेकिन आरजेडी ने बात नहीं मानी.


जब आज हम लोगों की नहीं सुन रहे हैं, तो कल सीएम बन गए तब तो हमारी और बात नहीं सुनेंगे. गठबंधन में सबकी बात सुनी जानी चाहिए, लेकिन यहां हमें दरकिनार किया गया. इसीलिए हिंदुस्तान अवाम मोर्चा ने महागठबंधन से अलग होने का फैसला किया है."


दलित चेहरा मांझी


बिहार में मांझी खुद को दलित नेता के रूप में पेश करते रहे हैं. इससे पहले वो नीतीश कुमार की पार्टी में थे, 2014 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद नीतीश कुमार ने सीएम पद से इस्तीफा देकर जीतन राम मांझी को सीएम बनाया था. लेकिन दोनों के बीच रिश्ते में तल्खी की वजह से जेडीयू ने उन्हें सीएम पद से हटाने का फैसला किया. जिसके बाद मांझी ने जेडीयू से अलग होकर खुद की पार्टी बनाई.


भले ही मांझी जेडीयू से अलग हो गए हों लेकिन अभी तय नहीं हुआ है कि उनकी पार्टी जेडीयू से हाथ मिलाएगी या नहीं. लेकिन कहा जा रहा है कि अगले दो दिन में इसका ऐलान खुद जीतन राम मांझी करेंगे.


तेजस्वी पर देते रहे हैं बयान


बता दें कि कोरोना के शुरुआती दिनों से ही मांझी तेजस्वी यादव के खिलाफ बयान देते रहे हैं. उन्होंने कहा था कि जब भी बिहार में कोई संकट होता है, तब तेजस्वी यादव नहीं होते हैं. जब विपक्ष के नेता ही नहीं हैं, तो हम लोगों के बोलने का सरकार पर क्या असर होगा.


न्यूज़ डेस्क




1 Response to "ब्रेकिंग : मांझी हुए महागठबंधन से अलग, जदयू में जाने के कयास"

  1. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जितनराम माझी जी फिर जदयू में सामिल होते हैं तो उनके पार्टी के लिए बहुत अच्छा होगी

    जवाब देंहटाएं

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article