-->
बकरी को बचाने के चक्कर में मां-बेटे की डूबने से मौत

बकरी को बचाने के चक्कर में मां-बेटे की डूबने से मौत

Mother and son drowning in Nahar

चकिया (Chakia):
थाना क्षेत्र के पूरन छपरा बजार के समिप स्थित गुजरने वाली मुख्य नहर के पानी में डूबने से माँ व बेटे की मौत हो गई। पुलिस ने दोनों के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए मोतिहारी भेज दिया है।

मृतक की पहचान पूरन छपरा गांव निवासी फूल मोहम्मद की 50 वर्षिय पत्नी जैतून खातून व 18 वर्षिय पुत्र हासिम अली के रूप में हुई है। 

Mother and son drowning in Nahar in Chakia

घटना की बाबत मिली जानकारी के अनुसार दोनों मृतक नहर के किनारे बकरी चराने गए थे कि उसी दौरान एक बकरी  नहर के अंदर चली गई। नहर के अंदर गयी बकरी को निकालने के लिए हासिम गया उसी दौरान नहर की मिट्टी में बने फिसलन के कारण उसका पैर फिसल गया  जिस कारण वह गहरे पानी में चला गया। किनारे पर खडी़ माँ अपने जिगर के टुकड़े को डूबता देख उसे बचाने के लिए पानी में कुद पड़ी। दुर्भाग्यवश वह भी गहरे पानी मे चली गई। 

दोनों माँ बेटे के डूबने की खबर सुन अगल बगल के ग्रामीण वहां जुटे। तबतक देर हो चुकी थी गहरे पानी के कारण दोनों की मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों ने किसी तरह से दोनों के शव को नहर के पानी से निकाला गया तथा सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में ले लिया।

मृतका के परिजनों ने बताया कि पति बीते कई वर्षों से घर से गायब है। उनका कोई अता-पता नहीं है तथा एक विवाहित पुत्र बाहर रह कर मजदूरी करता है तथा एक विवाहिता पुत्री भी है।  मां और बेटा गुरबत की जिंदगी जीने पर मजबूर थे। बकरी आदि का पालन कर अपना भरण पोषण करते थे। अचानक हुई मौत से गांव में मातम पसर गया। निकट परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था।

चकिया से अमितेश कुमार रवि की रिपोर्ट




0 Response to "बकरी को बचाने के चक्कर में मां-बेटे की डूबने से मौत"

टिप्पणी पोस्ट करें

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article