-->
घोड़ासहन में सीआइबी की टीम एवं आरपीएफ ने टिकट कालाबजारी को लेकर की छापेमारी

घोड़ासहन में सीआइबी की टीम एवं आरपीएफ ने टिकट कालाबजारी को लेकर की छापेमारी

CIB raid in Ghodasahan

घोड़ासहन (Ghodasahan): बुधवार की संध्या रेल टिकट कालाबाजारी को लेकर आरपीएफ एवं सीआईबी की टीम द्वारा संयुक्त रूप से छापेमारी में दो साइबर संचालक को गिरफ्तार किया है। उक्त छापेमारी शहर के मेन रोड अवस्थित सेंट्रल बैंक मार्केट में की गई। स्पेशल टीम द्वारा सुशील आर्ट्स एवं साइबर कैफे व अकाश साइबर कैफे में की गई।

मौके से पकड़े गए युवक की पहचान जितना थाना क्षेत्र के बिजबनी निवासी सुजीत कुमार के जबकि दूसरे संचालक की पहचान घोड़ासहन के अकाश कुमार के रूप में की गई है। मामले की पुष्टि करते आरपीएफ के पोस्ट कमांडर राजकुमार ने बताया कि वरीय अधिकारियों के निर्देश पर उक्त छापेमारी की गई थी। छापेमारी में सुजीत कुमार की दुकान सुशील आर्ट्स एवं साइबर कैफे से पर्सनल आईडी पर बना हुआ रेलवे का पांच पीस फ्यूचर ई टिकट एवं चार अदद पास्ट ई टिकट बरामद किया गया।

वहीं उसके दुकान से मोबाइल, लैपटॉप, डेस्कटॉप सहित कुछ नगदी रुपये भी बरामद किए गये हैं। आगे उन्होंने बताया कि उक्त संचालक आईआरसीटीसी का अधिकृत एजेंट तक भी नहीं है तथा उसके पास से पांच पर्सनल आईडी भी मिला है। एक्सपर्ट की टीम द्वारा जप्त किए गए सारे उपकरणों के गहन जांच पड़ताल कराई जा रही है।

वहीं उन्होंने बताया कि पकड़े गए दोनों साइबर संचालकों को आवश्यक कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद बेतिया न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। 

छापेमारी अभियान में घोड़ासहन आरपीएफ के पोस्ट प्रभारी विजय कुमार, सब इंस्पेक्टर संतोष मिश्रा, चंदन कुमार सीआईबी की टीम सहित घोड़ासहन थाना मौजूद था। वहीं इस पुलिसिया कार्रवाई से अवैध रूप से टिकट का कार्य करने वालों में भय व्याप्त है।

बताते चले कि हाल ही के दिनों में विभिन्न सीमावर्ती क्षेत्रों में आरपीएफ की टीम द्वारा कई जगहों पर छापेमारी की गई थी जिसमें अवैध रूप से रेल टिकट के कार्यों का भंडाफोड़ हुआ था। इधर शहर के बीचों बीच हुई ईस छापेमारी से लोगों में कौतहुल का विषय बना हुआ है।

न्यूज़ डेस्क




1 Response to "घोड़ासहन में सीआइबी की टीम एवं आरपीएफ ने टिकट कालाबजारी को लेकर की छापेमारी"

  1. प्रत्येक विभाग में इसी तरह औचक छापेमारी कि जाए तो कालाबाजारी पर रोक लग सकता है. धन्यवाद RPF and CBI team

    जवाब देंहटाएं

आप अपना सुझाव यहाँ लिखे!

Ads on article

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article